मुंबई की उत्तराखंडी चौपाल में भू कानून पर उठी आवाज - Bharat Samvad

Post Top Ad

Thursday, December 1, 2022

मुंबई की उत्तराखंडी चौपाल में भू कानून पर उठी आवाज



अपनी जन्मभूमि के मुद्दों पर प्रवासियों ने किया चिंतन 

मुंबई. मुंबई व उपनगरों में कार्यरत उत्तराखंडियों की सामाजिक संस्थाओं के लिए रविवार का दिन खास बन गया, जब सभी लोगों ने एक मंच पर आकर उत्तराखंड और मुंबई के प्रवासियों के सार्वजनिक मुद्दों पर चिंतन मनन किया.

युवा उद्यमी मनोज  भट्ट के संयोजन और प्रयाग रावत के संचालन में उत्तराखंड भवन, में आयोजित चौपाल में सैकड़ों की संख्या में जुटे प्रवासियों ने मिलकर अपने मूल राज्य उत्तराखंड में सशक्त भू कानून, आगामी विधानसभा परिसीमन में पहाड़ों की विधानसभा सीटों के घटने की आशंका और मुंबई के उत्तराखंड भवन में उत्तराखंडियों को 70 प्रतिशत छूट सहित राज्य के कई गंभीर मुद्दों पर मुंबई से चिंतन किया. मुख्य अतिथि के रूप में पहुंचे कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने प्रवासियों द्वारा  आयोजित इस चौपाल पर खुशी जताई. उन्होंने कहा कि यह बहुत खुशी की बात है कि सभी प्रवासी अपने मूल राज्य उत्तराखंड के प्रति सचेत हैं. उन्होंने कहा कि कोई भी सचेत समाज ही सरकारों को जगाने का काम करता है और जब समाज सचेत होगा तो सरकारों को उसी के अनुरूप नीतियां बनानी होंगी. उन्होंने कहा कि उत्तराखंड भू कानून और आगामी विधानसभा परिसीमन को लेकर प्रवासियों की चिंता जायज है और जहां तक क्षेत्रफल के आधार पर परिसीमन की बात है, इसके लिए उत्तराखंड के सांसदों को संसद में आवाज उठानी होगी. इसके लिए उन्होंने सभी प्रवासियों को अपने अपने क्षेत्र के सांसदों को पत्र लिखकर संसद में आवाज उठाने या प्राइवेट मेंबर बिल लाने का सुझाव दिया. 

No comments:

Post a Comment

भारत संवाद

भारत संवाद हिंदी समाचार पत्र एवं आनलाइन न्यूज पोर्टल, पल-पल की ख़बरों के साथ वह भाव व विचार जिससे जनता में उत्साह प्रेरणा जगे, जिससे लोग आत्महित, देशहित, समाजहित तथा जनहित में कार्य करने को तत्पर हो सकें को प्रचारित प्रसारित करने में लगा है। भारत संवाद भारतीय विचार, सभ्यता और संस्कृति को प्रचारित करने की एक धारा है। जो आपसी संवाद के जरिए आगे बढ़ रही है। हम देश के कोने कोने से जन संवाद के जरिए भारत की आत्मा बसुधैव कुटुम्बकम्(धरती ही परिवार है) भावना को आगे बढ़ाने को कृतसंकल्प हैं। इसमें हमें अभूतपूर्व सहयोग मिल रहा है। देश के अनेकों प्रदेश के साथ साथ विदेशों सें भी हमारे पाठक और विचारक इस मुहीम में आपना सहयोग दे रहे हैं। सभी में बैठे परमात्मा को शत शत प्रणाम।

MAIN MENU

\