सच्चा मित्र वही है जो मित्र के कहे बिना उसके मन की व्यथा जान ले-आचार्य अंकित पांडेय - Bharat Samvad

add

Post Top Ad

Saturday, September 24, 2022

सच्चा मित्र वही है जो मित्र के कहे बिना उसके मन की व्यथा जान ले-आचार्य अंकित पांडेय

भारत संवाद संवाददाता कल्याण मुम्बई।,टिटवाला वैष्णव माता मंदिर परांगण में चल रही श्रीमद्भागवत कथा में पंडित अंकित पांडेय जी ने आज कृष्ण सुदामा कथा का रसास्वादन करवाया। श्री महाराज ने कहा कि कृष्ण सुदामा की मित्रता विश्व की सर्वश्रेष्ठ मित्रता में एक है। यह प्रभू और भक्त की आत्मीयता का परम् उदाहरण है। कथा कहती है कि पत्नी के जबरजस्ती भेजे जाने पर कृष्ण से मिलने के लिए सुदामा जी बहुत दिनों के बाद द्वारिका आए। बहुत दिनों के बाद दो मित्रों का मिलना और सुदामा की दीन अवस्था और कृष्ण की उदारता का मार्मिक वर्णन सुनकर श्रोता भावविभोर होगये।आचार्य जी ने बताया कि किस तरह से श्री कृष्ण भागवान ने मित्रता धर्म निभाते हुए सुदामा के लिए उदारता दिखाई, वह सब किया जो एक मित्र को करना चाहिए। साथ ही में उन्होंने श्री कृष्ण और सुदामा की आपस की नोक-झोक का बड़ी ही कुशलता से वर्णन किया । इसमें उन्होंने यह भी दर्शाया है कि श्री कृष्ण कैसे अपने मित्रता धर्म का पालन बिना सुदामा के कहे हुए उनके मन की बात जानकर कर देते हैं। सच्चा मित्र वही है जो मित्र के कहे बिना उसके मन की बात और उसकी अवस्था को जान ले। उसके लिए कुछ करें और उदारता दिखाऐं। यही सच्चा मित्र धर्म है। इस प्रसंग के श्रवण हेतु पधारे भक्तो ने खूब आनंद लिया और तालियों की गड़गड़ाहट से पंडाल गुंजायमान हो गया कथा आज अपने विश्राम की ओर भंडारे महाप्रसाद के साथ समापन लेगी जिसमे प्रमुख उपस्थिति भाजपा उत्तर भारतीय मोर्चा अध्यक्ष पंडित अजय मिश्र,विद्वान पंडित विनय मिश्रा,आचार्य नरेन्द्र, रवि सिंह, पंडित हेमंत मिश्रा, शैलेंद्र मिश्रा समेत सभी लोगों ने खूब आनंद लिया।

No comments:

Post a Comment

भारत संवाद

भारत संवाद हिंदी समाचार पत्र एवं आनलाइन न्यूज पोर्टल, पल-पल की ख़बरों के साथ वह भाव व विचार जिससे जनता में उत्साह प्रेरणा जगे, जिससे लोग आत्महित, देशहित, समाजहित तथा जनहित में कार्य करने को तत्पर हो सकें को प्रचारित प्रसारित करने में लगा है। भारत संवाद भारतीय विचार, सभ्यता और संस्कृति को प्रचारित करने की एक धारा है। जो आपसी संवाद के जरिए आगे बढ़ रही है। हम देश के कोने कोने से जन संवाद के जरिए भारत की आत्मा बसुधैव कुटुम्बकम्(धरती ही परिवार है) भावना को आगे बढ़ाने को कृतसंकल्प हैं। इसमें हमें अभूतपूर्व सहयोग मिल रहा है। देश के अनेकों प्रदेश के साथ साथ विदेशों सें भी हमारे पाठक और विचारक इस मुहीम में आपना सहयोग दे रहे हैं। सभी में बैठे परमात्मा को शत शत प्रणाम।

MAIN MENU

\