उल्हासनगर मे जिउतिया माता (महालक्ष्मी) पूजा साथ सम्पन्य। - Bharat Samvad

Advertisement

Breaking

Post Top Ad

Tuesday, September 20, 2022

उल्हासनगर मे जिउतिया माता (महालक्ष्मी) पूजा साथ सम्पन्य।

उल्हासनगर, उल्हासनगर स्टेशन के करीब गणेशघाट पर अपने बच्चो के लंबी उम्र की कामना को लेकर बड़ी संख्या में महिलाओं ने पूरे दिन निर्जल व्रत रखकर ज्युतिया माता (महालक्ष्मी) की पूजा अर्चना की. इस मौके पर मशहूर गायक राकेेश पंडित की संगीतमय धार्मिक देवी गीत गायन प्रस्तुत किया। गीत पर महिलाएं मंत्र मुग्ध झूमीं नाची गायी। गीत से वातावरण देवी भावमय हो गया। बता दे कि ज्युतिया व्रत को लेकर आस्‍था है कि इसे करने से भगवान जीऊतवाहन, पुत्र पर आने वाली सभी समस्याओं से उसकी रक्षा करतें हैं. यह व्रत विवाहित महिलाएं पूरे दिन निर्जल रहकर करती हैं. मान्‍यता है कि इसे करने से पुत्र की उम्र लंबी होती है। उल्हासनगर के विभिन्न जगहों पर शाम दोपहर 4 बजे से हजारो व्रतियों ने शामिल होकर ज्यतिया माता (महालक्ष्मी) की पूजा अर्चना की ।बड़ी संंंख्या में महिलाओं ने उपस्थित होकर अपने पुत्र की लंबी उम्र के लिए पूजा अर्चना की। साथ ही समाजसेवी अनिल पांडे ,बालू डेकोरेटर द्वारा घाट पर देवी संगीत का आयोजन किया गया।जहा छोटी गायिका अन्यन्या ने अपनी मधुर आवाज से सभी को थिरकने को मजबूर कर दिया।इस मौके पर पूर्व विधायक पप्पू कालानी, शिवसेना शहर प्रमुख राजेंद्र चौधारी, शिवाजी रगड़े, पूर्व नगरसेवक गजानन्द शेलके, फिरोज खान, नाना पवार, पंचशील पवार, बाबु मंगतानी, शाखा प्रमुख सुजित सिंह, अशोक जाधव, अभिषेक पालवे, गौतम ढोके, संतोष पांडे, महेश यादव, जमील खान (डॉन),दशरथ चौधारी सहित भारी संख्या में शहर के कई गणमान्य उपस्थित थे।

No comments:

Post a Comment

भारत संवाद

भारत संवाद हिंदी समाचार पत्र एवं आनलाइन न्यूज पोर्टल, पल-पल की ख़बरों के साथ वह भाव व विचार जिससे जनता में उत्साह प्रेरणा जगे, जिससे लोग आत्महित, देशहित, समाजहित तथा जनहित में कार्य करने को तत्पर हो सकें को प्रचारित प्रसारित करने में लगा है। भारत संवाद भारतीय विचार, सभ्यता और संस्कृति को प्रचारित करने की एक धारा है। जो आपसी संवाद के जरिए आगे बढ़ रही है। हम देश के कोने कोने से जन संवाद के जरिए भारत की आत्मा बसुधैव कुटुम्बकम्(धरती ही परिवार है) भावना को आगे बढ़ाने को कृतसंकल्प हैं। इसमें हमें अभूतपूर्व सहयोग मिल रहा है। देश के अनेकों प्रदेश के साथ साथ विदेशों सें भी हमारे पाठक और विचारक इस मुहीम में आपना सहयोग दे रहे हैं। सभी में बैठे परमात्मा को शत शत प्रणाम।

MAIN MENU

\