उल्हासनगर में एक और इमारत इुई दुर्घटनाग्रस्त, 4 लोगों की मौत - Bharat Samvad

Advertisement

Breaking

Post Top Ad

Thursday, September 22, 2022

उल्हासनगर में एक और इमारत इुई दुर्घटनाग्रस्त, 4 लोगों की मौत

मुम्बई कल्याण संवाददाता महेश द्विवेदी। उल्हासनगर कैम्प- 5 के ओ.टी. सेक्शन क्षेत्र में मनपा द्वारा धोखादायक धोषित मानस टॉवर नामक एक 5 मंजिला इमारत का स्लैब गिरने से 4 लोगों की मौत हो गई. उल्हासनगर-5 के ओटी सेक्शन क्षेत्र में कपालेश्वर महादेव मंदिर के पास आज सुबह मानस टावर नामक एक इमारत का स्लैब भरभरा कर गिर गया। इस घटना में इमारत के मलबे में 5 लोगो के दबे होने की बात सामने आ रही है। मनपा प्रशासन, एनडीआरएफ की टीम, दमकल और पुलिस प्रशासन जबकि बचाव अभियान जारी है जिसमे (1) सागर ओचानी (19 वर्ष) (2) रेणु ढोलंदास धनवानी (55 वर्ष) (3) धोलदास धनवानी (58 वर्ष) (4) प्रिया धनवानी (२४ वर्ष)का शव मलबे से बहार निकला जा चुका है। इसकी उल्हासनगर पालिका के उपआयुक्त जमीर लेंगरेकर ने जानकारी दी है. 25 साल पहले बनी इस 5 मंजिला जर्जर इमारत में 20 में से 11 फ्लैट खाली थे जबकि 9 फ्लैटों में लोग रहते थे। तलमंजिल पर दुकानें है जो खुली थीं। यह इमारत प्रभाग समिति 4 के अंतर्गत आता है, को मनपा प्रशासन द्वारा खतरनाक घोषित किया गया था। और दो बार भवन के रहने वालों को दो बार स्ट्रक्चरल ऑडिट(संरचनात्मक लेखा) करने का आदेश दिया गया था। घटना की जानकरी मिलते ही मनपा आयुक्त अजीज शेख, उप आयुक्त जमीर लेंगरेकर, करुणा जुइकर स्थानीय विधायक डॉ. बालाजी किनिकर, कुमाआयलानी,नगर विकास विभाग के सचिव सुनील मार्ले ने घटनास्थल पर पहुँच मौके का जायजा लिया। बता दे कि पिछले महीने 25 अगस्त को गोल मैदान क्षेत्र में कोमल पार्क की इमारत का स्लैब गिरने से 1 मजदूर की मौत हो गई थी और 2 घायल हो गए थे, कुछ साल पहले मोहिनी पैलेस की इमारत गिरने से 5 लोगों की मौत हो गई थी, साई सदन भवन, साईं शक्ति भवन गिरने से 7 लोगों की मौत, शीशमहल भवन गिरने से 6 लोगों की मौत हो गयी थी। उल्हासनगर की खतरनाक इमारत को लेकर मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने कुछ दिन पहले बड़े पैकेज की घोषणा की थी, लेकिन असल में शहर के नागरिकों का आरोप है कि हादसे में मारे गए लोगों और घायलों के परिजनों को सरकार और मनपा प्रशासन से कोई आर्थिक मदद नही मिली है। गौरतलब है कि सबसे पहले सोना मार्केट गिरी थी. इस इमारत में 9 लोग मारे गये थे। उसके बाद सिलसिला शुरू हुआ, 25 सालों में अब तक करीबन 53 इमारतें और कुछ इमारतों के स्लैब गिरने से 65 के क़रीब लोग मारे जा चुके है। हज़ारो लोग बेघर हुये है, शीशमहल अपार्टमेंट, मां भगवती, नीलकंठ, शिवसागर, रानी मां, महालक्ष्मी, शांति पैलेस, सन्मुख सदन, स्वामी शांतिप्रकाश अपार्टमेंट, सोना मार्केट, गुडमैन कॉटेज, नेहरू पार्क, हमलोग अपार्टमेंट, पारसमणी, सिंधरी सागर, लक्ष्मीनारायण, आशीर्वाद मार्केट, माधुरी कॉम्प्लेक्स, मलिका महल, मुरलीवाला, सत्यम कॉम्प्लेक्स, साई आशाराम अपार्टमेंट, मेमसाब, मंदार अपार्टमेंट,साई एम्पायर, शिवलीला, नवचंद्रिका,अम्बिकसागर अपार्टमेंट,महक अपार्टमेंट,ओम शिवगंगा सोसायटी, मोहिनी पैलेस,साईशक्ती अपार्टमेंट, देवऋषि बिल्डिंग,स्वामी नारायण पैलेस, कोमल पार्क और अब साई सदन भवन और अब मानस टॉवर का स्लैब गिरा। उल्हासनगर में इतनी इमारतें गिरी इतनी मौतें हुई है, परंतु इन सब हादसों से हमने कोई सबक नही लिया, ना ही शासन प्रशासन द्वारा कोई राहत मिलती नज़र आ रही है।

No comments:

Post a Comment

भारत संवाद

भारत संवाद हिंदी समाचार पत्र एवं आनलाइन न्यूज पोर्टल, पल-पल की ख़बरों के साथ वह भाव व विचार जिससे जनता में उत्साह प्रेरणा जगे, जिससे लोग आत्महित, देशहित, समाजहित तथा जनहित में कार्य करने को तत्पर हो सकें को प्रचारित प्रसारित करने में लगा है। भारत संवाद भारतीय विचार, सभ्यता और संस्कृति को प्रचारित करने की एक धारा है। जो आपसी संवाद के जरिए आगे बढ़ रही है। हम देश के कोने कोने से जन संवाद के जरिए भारत की आत्मा बसुधैव कुटुम्बकम्(धरती ही परिवार है) भावना को आगे बढ़ाने को कृतसंकल्प हैं। इसमें हमें अभूतपूर्व सहयोग मिल रहा है। देश के अनेकों प्रदेश के साथ साथ विदेशों सें भी हमारे पाठक और विचारक इस मुहीम में आपना सहयोग दे रहे हैं। सभी में बैठे परमात्मा को शत शत प्रणाम।

MAIN MENU

\